नींद की समस्या से बढ़ती है नेगेटिविटी और बुढ़ापे की धारणा- स्टडी


Sleep issues improve negativity: आजकल के बदलते लाइफस्टाइल (Life-style) में नींद न आना एक कॉमन प्रॉब्लम के रूप में सामने आ रही है. कई बार ऐसा होता है कि नींद पूरी नहीं लेने की वजह से मन चिड़चिड़ा सा हो जाता है. जिसका असर हमारे व्यवहार पर भी दिखाई देता है. यूके की एक्सटर यूनिवर्सिटी (College of Exeter) की स्टडी में सामने आया है कि नींद की समस्या (Sleep issues) से लोग कुछ हद तक नकारात्मक (Detrimental) हो रहे हैं. इस स्टडी के अनुसार, 50 से ज्यादा उम्र में नींद न आने से पीड़ित लोग समय के साथ नकारात्मक धारणाओं (Detrimental Perceptions) से पीडि़त हो सकते हैं, जो उनके शारीरिक, मानसिक और संज्ञानात्मक (cognitive) स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं. रिसर्चर्स ने 50 साल और उससे अधिक आयु के 4,482 लोगों पर सर्वे किया. इस सर्वे का उद्देश्य यह जानना था कि लोग किस फैक्टर (कारक) के जरिए खुद को हेल्दी महसूस करते हैं. स्टडी (Examine) में सामने आया कि ज्यादातर लोग अपनी नींद को लेकर परेशान थे.

आपको बता दें कि जिस तरह अच्छी सेहत (Well being) के लिए अच्छी डाइट (Food regimen) जरूरी है, उसी तरह अच्छी सेहत के लिए रात में अच्छी नींद भी आवश्यक है. कई रिसर्च (analysis) में यह बात सामने आ चुकी है कि अगर रात में अच्छी नींद (Sleep) न मिले, तो इसका नकारात्मक असर शरीर के हार्मोन, ब्रेन फंक्शन और परफॉरमेंस पर पड़ता है. पिछले कुछ दशकों से नींद की गुणवत्ता और इसकी अवधि में लगातार गिरावट हो रही है.

यह भी पढ़ें
Well being Information: सर्दी में निमोनिया का खतरा ज्यादा, जानिए इसके लक्षण और बचने का तरीका

कैसे हुई स्टडी?
यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर  (College of Exeter)  की रिसर्चर और इस स्टडी की प्रमुख लेखिका सेरेना सबातिनी (Serena Sabatini) ने कहा कि जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, लोग सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह के बदलावों का अनुभव करते हैं, जबकि कुछ लोग अधिक नकारात्मक हो जाते हैं. इसी के साथ बूढ़े होने की धारणा भी लोगों को नकारात्मक बनाती है.

यह भी पढ़ें
एस्पिरिन लेने से 26 % तक बढ़ जाता है हार्ट फेलियर का खतरा- स्टडी

स्टडी में सामने आया कि नींद में कठिनाई के चलते लोग अधिक वृद्ध (aged) महसूस करते हैं और अधिक नकारात्मक होते हैं. उदाहरण के लिए इस रिसर्च में एक व्यक्ति ने टिप्पणी की कि अगर मुझे 6 घंटे सोने को मिलते हैं तो मैं खुद को छोटा महसूस करता हूं. वहीं एक अन्य टिप्पणी में लिखा गया कि मुझे बहुत कम नींद आती है जिसका मेरे जीवन पर काफी प्रभाव पड़ता है.

Tags: Higher sleep, Well being, Well being Information





Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *